शनिवार, 28 अगस्त 2010

सांड 'सोहदा' नहीं है

डॉ.लाल रत्नाकर
--------------------------------------------------------------------------------------------

चाह तो रहा था,
कि उसका साथ देता रहूँ 
और मध्य काल के 
'मलंग' कि तरह 
गरीबों कमजोरों में 
जाकर 
सांड कि तरह!

मुखिया के छोड़े हुए
ग्राम समाजी  
'ठप्पा' 
लगे सांड कि 
'पुट्ठे' कि चमड़ी 
पर लाल सलाखों 
से दागा हुआ 
दरबदर 
'मुखिया' को ढोता 
और अपने को                             
'कोसता'
और ये जानता
हुआ कि यह 
सोहदा है,
पर पूरे इलाके में 
'खबर'
करवा दिया कि 
सांड अब सांड 
नहीं 
'सोहदा' हो गया है ,


भारत की सामाजिक 
समझ का ढिंढोरा 
पिटता हुआ 
यह वह सांड की खूबियाँ 
गिनाता हुआ 
और उसके सोहदे 
हो जाने पर 
'उनकी गोष्ठियां कराता'
मुखिया 
'जमींदारों' की तरह 
दोनों को बुलाता 
सांड को बताता 
तुम्हारे सोहदे होने की 
सारी खबर इनको  है,
और वह मुह चिमोड़
कर कहता 
'आप ब........को ज्यादा 
कस देते हो'
मै तो उन्हें 'सहलाता' हूँ .


मुखिया फनफनाता है 
अपनी 'साजिश' को 
छुपाने के लिए 
अपने कुल के कुलगुरु 
की नाजायज 
'औलाद' को सहलाता है 
और सांड के दागे हुए 
'पुट्ठे' को सहलाता नहीं
उसको हल्का हल्का 
खुजलाते  हुए  
दुखाता  है .


चलो 
अब संभल कर
रहना 
सांड मत समझना 
बैल की तरह आचरण करना ,
और यह 
'मेरे' खानदानी है 
और इन पर आंच 
नहीं आने दूंगा .
इन्हें कहता हूँ ,
की यह लिखवाकर 
ले आयें 
---------
जाओ  
और लिखवा कर 
ले आओ की अब 
सांड 
'सोहदा' नहीं है.
पर ये खबर 
नहीं छपती की 
सांड 
अब 'सोहदा' नहीं है.

    

9 टिप्‍पणियां:

JHAROKHA ने कहा…

Hindi blog jagat men apka svagat hai.Meree shubhkamnayen.
Poonam

वीना ने कहा…

स्वागत है...रेखांकन बहुत सुंदर हैं

http://veenakesur.blogspot.com/

Patali-The-Village ने कहा…

बहुत सुन्दर अभिब्यक्ति.......आभार|

संगीता पुरी ने कहा…

इस सुंदर नए चिट्ठे के साथ आपका ब्‍लॉग जगत में स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

अजय कुमार ने कहा…

हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

आनन्‍द पाण्‍डेय ने कहा…

ब्‍लागजगत पर आपका स्‍वागत है ।

किसी भी तरह की तकनीकिक जानकारी के लिये अंतरजाल ब्‍लाग के स्‍वामी अंकुर जी,
हिन्‍दी टेक ब्‍लाग के मालिक नवीन जी और ई गुरू राजीव जी से संपर्क करें ।

ब्‍लाग जगत पर संस्‍कृत की कक्ष्‍या चल रही है ।

आप भी सादर आमंत्रित हैं,
http://sanskrit-jeevan.blogspot.com/ पर आकर हमारा मार्गदर्शन करें व अपने
सुझाव दें, और अगर हमारा प्रयास पसंद आये तो हमारे फालोअर बनकर संस्‍कृत के
प्रसार में अपना योगदान दें ।
यदि आप संस्‍कृत में लिख सकते हैं तो आपको इस ब्‍लाग पर लेखन के लिये आमन्त्रित किया जा रहा है ।

हमें ईमेल से संपर्क करें pandey.aaanand@gmail.com पर अपना नाम व पूरा परिचय)

धन्‍यवाद

राकेश कौशिक ने कहा…

आपके ब्लॉग पर आकर अच्छा लगा

Surendra Singh Bhamboo ने कहा…

ब्लाग जगत की दुनिया में आपका स्वागत है। आप बहुत ही अच्छा लिख रहे है। इसी तरह लिखते रहिए और अपने ब्लॉग को आसमान की उचाईयों तक पहुंचाईये मेरी यही शुभकामनाएं है आपके साथ
‘‘ आदत यही बनानी है ज्यादा से ज्यादा(ब्लागों) लोगों तक ट्प्पिणीया अपनी पहुचानी है।’’
हमारे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

मालीगांव
साया
लक्ष्य

हमारे नये एगरीकेटर में आप अपने ब्लाग् को नीचे के लिंको द्वारा जोड़ सकते है।
अपने ब्लाग् पर लोगों लगाये यहां से
अपने ब्लाग् को जोड़े यहां से

Amar Nath ने कहा…

Ap sabaka aabhar.